Category: Short Story

Kya fark padta hain

…To tumhe uski yaad bhi nahi aati?

Aati hain. par fark hain.

fark? kaisa fark!

Pehle uski yaadein bin bulaye aati thi aur main kuch nahi kar paata tha.

Aur ab.

Aaj bhi yaadein to bin bulaye hi aati hain, par abhi intezar karvata hu un yaadon ko jab tak wo apne aap wapis chali naa jaaye.

Hm..

Ek time tha tum kehte the ki tum uske bina reh nahi paaoge. phir ye ekdum se achanak kya hua.

Wohi na, wo ek waqt “Tha” aaj wo waqt nahi hain. aur rahi us-se mohbbat karne ki baat, to pata nahi ek din jaise uske liye jitna bhi pyaar tha sab jaise gayaab ho gaya jaise subah hone par saare taare gayab ho jaate hain.

Ek baat kahu! Taare gayab nahi hote waise, wo wohi rehte hain bas sooraj ki roshni ki vajah se hume dikhte nahi.

Ek hi baat hain. kya fark padta hain.

Hmm.. kya fark padta hain..

Ek kahani

तुमको सच में शादी नहीं करनी।

फिर वही सवाल।

नहीं, क्यों नहीं करनी। कोई तो वजह होंगी ना।

हमारी इस बारे में बात हो चुकी है, so please।

हा वो पता है, वहीं तुम्हारा स्टुपिड पूरी ज़िन्दगी अकेला रहने का, बंजारो की तरह दुनिया में यहां वहा भटकते रहना।

उसे भटकना नहीं, घूमना कहते है।

जो भी है, पर अकेले ही क्यों, कोई ऐसे लड़का भी तो होगा ना, जों बिल्कुल तुम्हारी तरह क्रैक हो। उसके साथ शादी करके साथ में भटकता, मतलब कि घूमना।

ये ऐसे अकेले पूरी ज़िन्दगी घूमने का प्लान तो मुझे इत्तू सा भी ठीक नहीं लगा। अभी तुम जवान हो, कल जब बूढ़ी हो जाओगी कुछ काम वाम नहीं होगा तब क्या करोगी।

तुम इतना लंबा कबसे सोचने लगे?

जबसे तुमने अपने दिमाग में ताला मारा है। Try too understand Yaar.

वहीं ना, try too understand Yaar. और ऐसा ही है तो तुम करलो मुझसे शादी, तुम चलो साथ फिर। Problem solved।

इस बारे में भी हमारी बात हो गई है, so please।

हा वहीं तुम्हारा स्टुपिड कैंसर, उसे कहो ना यार चला जाए।

चला जाएगा और वो भी मुझे लेकर, इसी लिए तो बोल रहा हूं यार शादी कर ले।

– एक कहानी, दो लोग, एक इश्क़, दो रास्ते, दोनों को मंज़िल, एक दूसरे को जीना।

_________end__________